Forgot your password?

Enter the email address for your account and we'll send you a verification to reset your password.

Your email address
Your new password
Cancel
घुमक्कड़ लेखक और रचनात्मक बागी सादत हसन मंटो के जीवन पर भारतीय फिल्मकार नंदिता दास द्वारा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता की अवधारणा के आधार पर बनाई गई फिल्म 'मंटो' ने मौजूदा समय के हिसाब से जैकपॉट मारा है। इसमें ऐसे ज्वलंत मुद्दे को उठाया गया है जो न सिर्फ भारत बल्कि विश्व भर में प्रसांगिक है।
नंदिता का कहना है कि फिल्म बनाने का लक्ष्य हर व्यक्ति में मंटो को पुनर्जीवित कर उसे सच्चा और साहसी बनाना है।
मंटो ने उनकी साहित्यिक रचनाओं में अश्लीलता होने के बचाव में कई अदालतों में यह कहा था, "ये जरूरी है कि जमाने की करवटों के साथ, अदब भी करवट बदले।"
प्रश्नों में ये कहानियां भारत के बंटवारे की प्रष्ठभूमि में लिखी गई हैं जिसमें लाखों निर्दोष लोगों की जिंदगी खत्म हो गई।
'टोबाटेक सिंह', 'खोल दो', 'ठंडा गोश्त' जैसी लघुकथाओं में उपमहाद्वीप के इतिहास के इस अशांत समय की क्रूर और असहनीय सच्चाइयों को पाठकों के चेहरे पर तमाचे की तरह पेश किया गया है। मंटो के काम को आज तक समय की सच्चाई बयां करने वाला बताया गया है। उनके काम में कथा, फिल्मी पटकथा, निबंध तथा रेडियो नाटक शामिल हैं।
नंदिता की फिल्म 'मंटो' को हालिया सप्ताहों में 'कान' में तथा 'सिडनी' में शानदार प्रतिक्रिया मिली है। फिल्म सितंबर में भारत में रिलीज होने से पहले फिल्मोत्सव का परिक्रमा कर रही है।
नंदिता ने कहा, "मैं अपने आस-पास हो रही घटनाओं पर प्रतिक्रिया देना चाहती थी इसीलिए मैंने यह फिल्म बनाई। यह सिर्फ अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता नहीं है। वर्तमान में हमें वर्ग, धर्म, त्वचा का रंग, लिंग और भाषा के नाम पर बांटने के लिए राजनीति खेली जा रही है। मंटो का मानववाद उस सबसे आगे है।"
सिडनी फिल्मोत्सव से इतर नंदिता ने कहा, "इसी लिए मंटो के विचार 70 साल बाद आज भी प्रसांगिक हैं। वास्तव में मंटो अगर यूरोप में पैदा हुए होते, तो अब तक उन पर कई फिल्में बन चुकीं होतीं। आप यह भी कह सकते हैं कि हम सब में मंटो को जगाने के उद्देश्य से फिल्म बनाई गई है।"
मंटो का कथन जो नंदिता के पसंदीदा कथनों में से एक है, "मैं उस समाज की चोली क्या उतारूंगा जो पहले से ही नंगी है। उसे कपड़े पहनाना मेरा काम नहीं। मेरा काम है कि एक सफेद चाक से काली तख्त पे लिखूं ताकि कालापन और भी नुमायां हो जाए।"
फिल्म महोत्सवों में अच्छी शुरुआत मिलने के बाद फिल्म की यात्रा टोरंटो, बुसान और संभवत: मेलबर्न में भी जारी रहेगी।
नंदिता ने कहा, "फिल्म की पृष्ठभूमि भारत और पाकिस्तान पर आधारित है लेकिन कहानी वैश्विक है। यद्यपि एक पीरियड फिल्म होने के बावजूद यह एक आधुनिक कहानी है।"
INPUTS-IANS
YOUR REACTION
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0
  • 0

Add you Response

  • Please add your comment.